Breaking News

बड़ा भूकंप आया तो दिल्ली में मचेगी तबाही, जिंदा बम जैसी बन गई है राजधानी

नई दिल्ली [स्पेशल डेस्क]। भूकंप तबाही का दूसरा नाम है। हर साल दुनिया में हजारों भूकंप आते हैं और इनमें से कुछ तो भीषण तबाही के निशान छोड़ जाते हैं। कई बार ये बड़े पैमाने पर जानमाल का नुकसान करते हैं और एहसास दिलाते हैं, प्रकृति के उस रौद्र रूप का जिसके सामने किसी की नहीं चलती। अब ऐसे में सवाल ये है कि आखिर भूकंप आते क्यों हैं। 
भूकंप क्यों आते हैं यह समझने के लिए हमें पृथ्वी की संरचना को समझना पड़ेगा। दरअसल पृथ्वी बारह टैक्टोनिक प्लेटों पर स्थित है, जिसके नीचे तरल पदार्थ लावा के रूप में है। ये प्लेटें लावे पर तैर रही होती हैं। इनके टकराने से ही भूकंप आते हैं। टैक्‍टोनिक प्लेट्स अपनी जगह से हिलती रहती हैं और खिसकती भी हैं। हर साल ये प्लेट्स करीब 4 से 5 मिमी तक अपने स्थान से खिसक जाती हैं। इस क्रम में कभी-कभी ये प्लेट्स एक-दूसरे से टकरा जाती हैं। जिनकी वजह से भूकंप आते हैं। 
80 फीसद लोग मारे जाएंगेअब बात करते दिल्‍ली-एनसीआर की जो भूकंप के लिहाज से बेहद खतरनाक जोन में आता है। हमेशा खतरों के साये में रहनेवाले राजधानी क्षेत्र में अंधाधुंध अवैध निर्माण हो रहे हैं, इस पूरी प्रक्रिया में न ही नेशनल बिल्डिंग कोड का पालन किया जा रहा है और न ही स्‍ट्रक्‍चरल इंजीनियरिंग का। दिल्ली में रहने वाले टॉउन प्लानर सुधीर वोरा ने साल 2015 में नेपाल भूकंप के बाद कहा था कि 6 रिक्टर स्केल का भूकंप भारत को 70 फीसद तक तबाह कर सकता है। 'अगर इस तीव्रता का भूकंप दिल्ली में आता है तो मुझे लगता है दिल्ली की 80 लाख जनसंख्या का सफाया हो जाएगा।'
क्यों है दिल्ली को ज्यादा खतरा
बिना किसी प्लानिंग के विकास ने दिल्ली को एक जिंदा बम जैसा बना दिया है। राज्यों और केंद्र सरकार की अलग-अलग एजेंसियों ने रिस्क को लेकर एक अध्ययन किया है। इस अध्ययन के अनुसार दिल्ली के अलग-अलग हिस्सों की मिट्टी अलग है। यमुना पार का (पूर्वी) इलाका रेतीली जमीन पर बसा है और यह हाईराइज बिल्डिंगों के लिए मुफीद नहीं है। जबकि मध्य दिल्ली के रिज इलाके को काफी हद तक सुरक्षित माना जाता है।भारत की स्थिति
भूंकप के खतरे के हिसाब से भारत को चार जोन में विभाजित किया गया है। जोन-2 में दक्षिण भारतीय क्षेत्र को रखा गया है, जहां भूकंप का खतरा सबसे कम है। जोन-3 में मध्य भारत है। जोन-4 में राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित उत्तर भारत के तराई क्षेत्रों को रखा गया है, जबकि जोन-5 में हिमालय क्षेत्र और पूर्वोत्तर क्षेत्र तथा कच्छ को रखा गया है। जोन-5 के अंतर्गत आने वाले इलाके सबसे ज्यादा खतरे वाले हैं। दरअसल, इंडियन प्लेट हिमालय से लेकर अंटार्कटिक तक फैली है। यह हिमालय के दक्षिण में है, जबकि यूरेशियन प्लेट हिमालय के उत्तर में है, जिसमें चीन आदि देश बसे हैं। वैज्ञानिकों के मुताबिक, इंडियन प्लेट उत्तर-पूर्व दिशा में यूरेशियन प्लेट की तरफ बढ़ रही हैं। यदि ये प्लेटें टकराती हैं तो भूकंप का केंद्र भारत में होगा।
दिल्ली ही नहीं पूरा देश खतरे में
साल 2015 में आई एक रिपोर्ट में भारत के एक मशहूर भूकंप जानकार और एनडीएमए के सदस्य डॉ. हर्ष गुप्ता ने बताया था कि भारत के 344 शहर और नगर भूकंप के लिहाज से हाई रिस्क जोन-5 में रहते हैं। उन्होंने बताया था कि अगर 9 रिक्टर स्केल का कोई भूकंप आ जाए तो यह हिरोशिमा पर गिरे 27 हजार बमों के बराबर होगा। यही नहीं, इसके बाद सालों तक ऑफ्टर शॉक भी आते रहेंगे।