Breaking News

जस्टिस जोसेफ के नाम की सिफारिश दोबारा केंद्र को भेजने के लिए कॉलेजियम की बैठक बुलाएं: जस्टिस चेलमेश्वर

नई दिल्ली. 22 जून को सुप्रीम कोर्ट से रिटायर हो रहे वरिष्ठ न्यायाधीश जे चेलमेश्वर ने चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा को जस्टिस केएम जोसेफ के मुद्दे पर खत लिखा है। जस्टिस चेलमेश्वर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के जज के तौर पर जस्टिस केएम जोसेफ के नाम की सिफारिश तुरंत केंद्र को भेजने के लिए कॉलेजियम की बैठक बुलाएं। बता दें कि जस्टिस चेलमेश्वर ने ही सुप्रीम कोर्ट के 3 न्यायाधीशों के साथ 12 जनवरी को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। इसमें कहा गया था कि देश की सर्वोच्च अदालत में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है।
सिफारिश भेजने से अब तक हालात में कोई बदलाव नहीं हुआ- जस्टिस चेलमेश्वर
- उच्चतम न्यायालय के एक अधिकारी ने कहा कि बुधवार शाम जस्टिस चेलमेश्वर ने सीजेआई को लिखे खत में कहा, "10 जनवरी को जिन परिस्थितियों में कॉलेजियम ने जस्टिस केएम जोसेफ को सुप्रीम कोर्ट का जज बनाए जाने की सिफारिश केंद्र को भेजी थी, उनमें कोई बदलाव नहीं हुआ है।'
- ये भी माना जा रहा है कि जस्टिस चेलमेश्वर ने उन सभी बिंदुओं पर अपनी राय रखी, जो सीजेआई और कानून मंत्री रविशंकर के बीच जस्टिस केएम जोसेफ के मसले पर हुए संवाद के दौरान उठाए गए थे।
तय नहीं, कब होगी कॉलेजियम की बैठक
- उम्मीद की जा रही थी कि बुधवार को कॉलेजियम की बैठक होगी, लेकिन जस्टिस चेलमेश्वर छुट्टी पर थे। कॉलेजियम में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा और जस्टिस चेलमेश्वर के अलावा, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन बी लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ शामिल हैं। 
- अधिकारी ने बताया कि सीजेआई तय करेंगे कि कॉलेजियम की बैठक कब होगी, हालांकि इस बारे अभी तक किसी तरह की आधिकारिक सूचना नहीं दी गई है।
सिफारिश दोबारा भेजे जाने के पक्ष में जस्टिस कुरियन जोसेफ भी
- पिछले हफ्ते केरल दौरे पर आए जस्टिस कुरियन जोसेफ ने भी जस्टिस केएम जोसेफ का नाम दोबारा केंद्र को भेजे जाने का समर्थन किया था।
- जस्टिस कुरियन जोसेफ ने कहा, "ऐसा कोई उदाहरण नहीं मिलता है कि कॉलेजियम की सिफारिश को केंद्र ने लौटा दिया हो। इसलिए इस मसले पर विस्तार से चर्चा होनी चाहिए। ये आम राय बन गई है कि जो चीजें पहले नहीं होती थीं, वे अब हो रही हैं।"
पिछली बैठक में कॉलेजियम ने पुनवर्विचार पर फैसला टाल दिया था
- केंद्र ने जस्टिस केएम जोसेफ के नाम पर पुनर्विचार के लिए कहा। इसके बाद 2 मई को कॉलेजियम ने इस पर फैसला टाल दिया। 
- कॉलेजियम के पांच सदस्य चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा, जस्टिस जे चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस मदन बी लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ ने इस मुद्दे पर मुलाकात की थी, लेकिन सदस्यों के बीच इस मुद्दे को लेकर मतभेद के चलते कोई फैसला नहीं हो पाया।
10 जनवरी को कॉलेजियम ने 2 नामों की सिफारिश की थी
- सुप्रीम कोर्ट के 5 जजों के कॉलेजियम ने 10 जनवरी को इंदु मल्होत्रा और जस्टिस केएम जोसेफ को सुप्रीम कोर्ट का जज बनाने की सिफारिश की थी।
- इंदू मल्होत्रा के नाम पर केंद्र ने मुहर लगा थी थी। उन्होंने 27 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट की न्यायधीश के तौर पर सीजेआई की मौजूदगी में शपथ ली थी।