कश्मीर बंद पर इस्तीफ़ा देने वाले आईएएस अधिकारी को पुणे विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी में जाने से रोका गया - Badhata Rajasthan - नई सोच नई रफ़्तार

Breaking

Wednesday, 25 September 2019

कश्मीर बंद पर इस्तीफ़ा देने वाले आईएएस अधिकारी को पुणे विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी में जाने से रोका गया

सावित्रीबाई फूले पुणे विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी के अधिकारियों ने कहा कि कन्नन गोपीनाथन के दौरे का आवेदन मांगकर विश्वविद्यालय केवल प्रक्रियाओं का पालन कर रहा था.

कन्नन गोपीनाथन. (फोटो: द वायर)

कन्नन गोपीनाथन. (फोटो: द वायर)

पुणे: जम्मू कश्मीर में लगी पाबंदियों को लेकर भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) से इस्तीफा देने वाले केरल के कन्नन गोपीनाथन को सोमवार को सावित्रीबाई फूले पुणे विश्वविद्यालय (एसपीपीयू) की जयकर नॉलेज रिसोर्स सेंटर (जेकेआरसी) लाइब्रेरी में जाने से रोक दिया गया.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, गोपीनाथन ने कहा कि छात्र चाहते थे कि वे लाइब्रेरी में आएं लेकिन छात्रों और लाइब्रेरी प्रशासन के बीच विवाद होने के बाद उन्होंने खुद जाने का विचार छोड़ दिया.

वहीं, जेकेआरसी की लाइब्रेरी प्रभारी अपर्णा राजेंद्र ने कहा कि वह केवल प्रक्रियाओं का पालन कर रही थीं जिसके तहत उन्होंने आधिकारिक दौरे के लिए आवेदन की मांग की थी.

राजेंद्र ने कहा, ‘उन्हें लाइब्रेरी दिखाने में हमें भी खुशी होती लेकिन लाइब्रेरी का इस्तेमाल अन्य छात्र भी पढ़ाई के लिए करते हैं इसलिए वहां पर सार्वजनिक भाषण जैसा कुछ संभव नहीं था. इससे अन्य छात्रों को परेशानी होती.’

उन्होंने आगे कहा कि विश्वविद्यालय को गोपीनाथन की यात्रा के बारे में पूर्व सूचना नहीं दी गई थी.

उन्होंने कहा, ‘उच्च पदों वाले अधिकारियों के दौरे के लिए रजिस्ट्रार के कार्यालय के माध्यम से आधिकारिक सूचना की आवश्यकता होती है. इसलिए मैंने छात्रों को इसके लिए एक आवेदन जमा करने की सलाह दी, जो हमारे रिकॉर्ड को बनाए रखने का हिस्सा है.’

वहीं लाइब्रेरी प्रशासन द्वारा आधिकारिक आवेदन मांगे जाने पर छात्रों ने आश्चर्य जताया और दावा किया कि उन्होंने बहुत बुरा बर्ताव किया.

एसपीपीयू के कॉमर्स के द्वितीय वर्ष के छात्र कमलाकर चंद्रकला ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, ‘अधिकारियों ने हमें यह नहीं बताया कि आवेदन की आवश्यकता क्यों थी. हमें आधिकारिक प्रक्रिया की जानकारी नहीं थी लेकिन हम उसका पालन करते. लेकिन लाइब्रेरी अधिकारियों के बात करने के तरीके से हमें दुख पहुंचा.’

वहीं गोपीनाथन ने कहा, ‘मैं पुणे घूमंने गया था जिसके तहत सोमवार को मैं एसपीपीयू के दौरे पर था. छात्र मुझे लाइब्रेरी दिखाना चाहते थे लेकिन छात्रों और लाइब्रेरी प्रशासन के बीच विवाद बढ़ने के बाद हमने मामले को आगे न बढ़ाने का फैसला करते हुए लाइब्रेरी जाने का विचार छोड़ दिया.’

इसके बाद छात्रों ने पुणे विश्वविद्यालय की कैंटीन में एक अनौपचारिक बैठक में चर्चा की.

बता दें कि, पिछले महीने कन्नन गोपीनाथ ने यह कहते हुए इस्तीफा दे दिया था कि वे ऐसी स्थिति में काम नहीं कर सकते हैं जहां लोगों के अधिकारों और स्वतंत्रता का दमन करने के लिए नौकरशाही मशीनरी का दुरुपयोग किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि यह एक तरह से अघोषित अपातकाल है.

द वायर से बात करते हुए गोपीनाथन ने कहा था, ‘यह यमन नहीं है, यह 1970 के दशक का दौर नहीं है जिसमें आप पूरी जनता को मूल अधिकार देने से इनकार कर देंगे और कोई कुछ नहीं कहेगा.’

The post कश्मीर बंद पर इस्तीफ़ा देने वाले आईएएस अधिकारी को पुणे विश्वविद्यालय की लाइब्रेरी में जाने से रोका गया appeared first on The Wire - Hindi.

No comments:

Post a Comment