Saturday, 9 November 2019

विहिप को उम्मीद, अयोध्या में राम जन्मभूमि न्यास के डिजाइन के मुताबिक होगा मंदिर निर्माण

0 comments

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद काशी और मथुरा के धार्मिक स्थलों को लेकर विहिप की आगामी योजना के बारे में पूछे जाने पर विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे ने कहा कि बाकी विषयों पर समाज के रुख को राम मंदिर निर्माण के बाद देखा जाएगा.

विहिप द्वारा प्रस्तावित राम मंदिर का एक मॉडल देश भर में कई जगह पर ले जाया गया था. इस मॉडल के साथ अशोक सिंघल (फाइल फोटो: रॉयटर्स)

विहिप द्वारा प्रस्तावित राम मंदिर का एक मॉडल देश भर में कई जगह पर ले जाया गया था. इस मॉडल के साथ अशोक सिंघल (फाइल फोटो: रॉयटर्स)

इंदौर: अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को संतुलित करार देते हुए विश्व हिन्दू परिषद के एक शीर्ष पदाधिकारी ने शनिवार को इसका स्वागत किया. इसके साथ ही उम्मीद जताई कि संविधान पीठ के आदेश पर बनने वाला ट्रस्ट राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर का निर्माण राम जन्मभूमि न्यास के उस डिजाइन के मुताबिक ही कराएगा जिसके तहत पिछले तीन दशक से पत्थर तराशे जा रहे हैं.

विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे ने कहा, ‘अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अब किसी भी पक्ष की हार या जीत का सवाल नहीं है, क्योंकि अदालत ने संतुलित फैसला सुनाते हुए सदियों पुराने मसले को अच्छी तरह हल कर दिया है. यह फैसला स्वागतयोग्य है, क्योंकि इसके तहत न्याय किया गया है.’

कोकजे ने कहा, ‘इस फैसले की रोशनी में हम समझ रहे हैं कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए जरूरी फैसले शीर्ष अदालत के आदेश पर सरकार द्वारा गठित किए जाने वाले ट्रस्ट की निगरानी में ही होने हैं. हालांकि, हम उम्मीद कर रहे हैं कि राम जन्मभूमि पर उसी डिजाइन के मुताबिक भव्य मंदिर का निर्माण किया जाएगा, जो राम जन्मभूमि न्यास ने पहले से तैयार कर रखा है. इस डिजाइन को अपनाया जाना (प्रस्तावित) ट्रस्ट के लिए सुविधाजनक भी होगा.’

अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद काशी और मथुरा के धार्मिक स्थलों को लेकर विहिप की आगामी योजना के बारे में पूछे जाने पर कोकजे ने सवाल को टाल दिया. उन्होंने संबंधित प्रश्न पर कहा, ‘फिलहाल हम अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण पर पूरा ध्यान केंद्रित कर रहे हैं. बाकी विषयों पर समाज के रुख को राम मंदिर निर्माण के बाद देखा जाएगा.’

इससे पहले अयोध्या के बाद काशी और मथुरा में भावी योजना के बारे में पूछे गए सवाल पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था कि संघ आंदोलन नहीं करता, संघ का काम मनुष्य निर्माण है. उन्होंने कहा, ‘आगे हम मनुष्य निर्माण में जुड़ जाएंगे. आंदोलन के विषय हमारे विषय नहीं रहते तो हम इस बारे में कुछ नहीं कह सकते.’

संघ प्रमुख ने कहा है कि अतीत की बातों को भुलाकर सभी मिलकर भव्य राम मंदिर का निर्माण करेंगे.

मध्य प्रदेश और राजस्थान के उच्च न्यायालयों के पूर्व न्यायाधीश कोकजे ने कहा, ‘राम जन्मभूमि न्यास ने मंदिर निर्माण के लिए काफी तैयारी कर रखी है. मंदिर का डिजाइन तैयार है और इसके मुताबिक बड़े पैमाने पर पत्थर भी तराश लिए गये हैं.’

गौरतलब है कि विहिप ने राम मंदिर निर्माण कार्यशाला में 1990 में अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए पत्थरों को तराशना शुरू किया था. राम जन्मभूमि न्यास विश्व हिन्दू परिषद के सदस्यों का स्थापित ट्रस्ट है. इस ट्रस्ट की स्थापना अयोध्या में राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के उद्देश्य से 18 दिसंबर 1985 को की गई थी.

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने शनिवार को सुनाए अपने फैसले में कहा कि अयोध्या में उस स्थान पर मंदिर निर्माण के लिए तीन महीने के भीतर एक ट्रस्ट गठित किया जाना चाहिये जिसके प्रति हिंदुओं की आस्था है कि भगवान राम का जन्म वहीं हुआ था.

विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि उनका संगठन यह उम्मीद भी करता है कि भगवान राम के प्रति भक्ति-भाव रखने वाले हिंदुओं को ही प्रस्तावित ट्रस्ट में शामिल किया जाएगा.

हिमाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल कोकजे ने जोर देकर कहा, ‘अयोध्या में राम जन्मभूमि के विवाद को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ या विश्व हिंदू परिषद ने पैदा नहीं किया था. राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण को लेकर आम जनता ने आंदोलन शुरू किया था और हम लोग इसमें शामिल हुए थे.’

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

The post विहिप को उम्मीद, अयोध्या में राम जन्मभूमि न्यास के डिजाइन के मुताबिक होगा मंदिर निर्माण appeared first on The Wire - Hindi.

No comments:

Post a Comment