Tuesday, 3 December 2019

‘अगर कृश्न चंदर आज लिख रहे होते तो तिहाड़ जेल में होते’

0 comments

बीते दिनों आईसीएसई ने प्रसिद्ध कहानीकार कृश्न चंदर की कहानी ‘जामुन का पेड़’ को दसवीं कक्षा के पाठ्यक्रम से हटा दिया था. उनकी लेखनी और ज़िंदगी की महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में उनके भतीजे पवन चोपड़ा से द वायर के फ़ैयाज़ अहमद वजीह की बातचीत.

यह भी पढ़ें: जामुन का पेड़: कृश्न चंदर की वो कहानी, जिसे आईसीएसई ने पाठ्यक्रम से हटा दिया है

The post ‘अगर कृश्न चंदर आज लिख रहे होते तो तिहाड़ जेल में होते’ appeared first on The Wire - Hindi.

No comments:

Post a Comment